Technology

क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड के बीच क्या अंतर है? | Difference between Credit Card and Debit Card

Difference between Credit Card and Debit Card In Hindi – आज के समय में हर कोई व्यक्ति ऑनलाइन ट्रांजैक्शन को ही सबसे अधिक सुरक्षित महसूस करता है। आज के इस डिजिटल युग में हर व्यक्ति चाहता कि उसके पास एक किसी भी बैंक का क्रेडिट कार्ड हो लेकिन क्या आप जानते हैं। क्रेडिट कार्ड क्या होता है और यह किस काम में आता है। इसलिए आज की इस पोस्ट में डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड क्या होता है और Difference between Credit Card and Debit Card In Hindi, इसके बारे में विस्तार से बताया गया है।

Difference between Credit Card and Debit Card In Hindi – 

हम सब अच्छी तरह से जानते हैं कि ऑनलाइन मनी ट्रांसफर, रिचार्ज या बिजली बिल भुगतान करने के लिए करने के लिए एक बैंक अकाउंट का होना बहुत जरूरी होता है। मैं जहां तक समझता हूं कि हर व्यक्ति के पास एक बैंक का अकाउंट होगा। भारतीय रिजर्व बैंक के द्वारा भी समय-समय पर ऑनलाइन ट्रांजैक्शन प्रक्रिया के लिए ठोस कदम उठाए जाते हैं। ‌ ऑनलाइन ट्रांजैक्शन प्रक्रिया वाले ग्राहकों किसी प्रकार की कोई परेशानी ना हो। ‌

आपको बता दूं कि डेबिट कार्ड के माध्यम से किए गए भुगतान का पैसा सीधे बैंक अकाउंट से काटा जाता है। यानी आसान भाषा में समझा जाए तो यह एक प्रीपेड सिम कार्ड की तरह होता है जिसका हम तब तक उपयोग कर सकते हैं जब तक अपने अकाउंट में बैलेंस है। जबकि क्रेडिट कार्ड में यह प्रक्रिया बिल्कुल अलग होती है क्योंकि उसमें आपके बैंक अकाउंट के बैलेंस से कोई मतलब नहीं होता है। क्रेडिट कार्ड में बैंक की तरफ से अमाउंट की सीमा लिमिट दी जाती है, जिसके अंतर्गत आप कितने भी ट्रांजैक्शन कर सकते हैं।

इस लेख में हम डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर होता है इसके बारे में संपूर्ण विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे। ‌ क्या आप जानते हैं की (Difference between Credit Card and Debit Card In Hindi) डेबिट कार्ड क्या होता है और डेबिट कार्ड कौन कौन से उपयोग में लिया जाता है? 

डेबिट कार्ड क्या है? – 

डेबिट कार्ड एक ऐसा कार्ड होता है जो आपको 24 घंटे पैसे निकालने की सुविधा उपलब्ध करवाता है। यह आपको तब दिया जाता है जब आप किसी भी बैंक में अपना सेविंग या करंट अकाउंट खुलवाते हैं। ‌ यह एक ऐसा प्लास्टिक कार्ड होता है जिसका उपयोग कहीं भी पैसे निकालने के लिए जाता है। 

वैसे तो डेबिट कार्ड को आम भाषा में एटीएम कार्ड के नाम से भी जाना जाता है। इसका सबसे अधिक उपयोग एटीएम मशीन और ऑनलाइन भुगतान प्रणाली में किया जाता है। डेबिट कार्ड के माध्यम से आप एटीएम मशीन के द्वारा कभी भी पैसे निकाल सकते हैं।

जब हम किसी भी बैंक में अपना नया अकाउंट ओपन करवाते हैं तो हमें बैंक की तरफ से कुछ सुविधाएं दी जाती है जैसे मोबाइल बैंकिंग, इंटरनेट बैंकिंग, चैक बुक और एटीएम कार्ड। एटीएम का उपयोग करने के लिए एटीएम मशीन के द्वारा अपना पिन जनरेट करना होता है। पिन जनरेट करने के बाद आप कभी भी एटीएम से पैसे निकाल लेंगे तो आपको सबसे पहले आपके द्वारा जनरेट किया गया पिन ही डालना होगा। 

डेबिट कार्ड के फायदे – 

डेबिट कार्ड का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि आप बिना लाइन में लगे एटीएम मशीन से पैसे निकाल सकते हैं और यह सर्विस आपको 24 घंटे उपलब्ध रहती है। 

इसके अलावा डेबिट कार्ड का उपयोग करके आप एटीएम मशीन से बिना बैंक गए बैंक बैलेंस चेक कर सकते हैं और अपने ट्रांजैक्शन का मिनी स्टेटमेंट भी आसानी से चेक कर सकते हैं। 

इसके अलावा अगर आपने कोई भी शोरूम से कुछ भी सामान खरीदा है, तो स्वाइप मशीन के द्वारा डेबिट कार्ड का उपयोग करके आप उसका पेमेंट कर सकते हैं। 

इन सबके अलावा जो भी ऑनलाइन पेमेंट होते हैं जैसे ऑनलाइन मनी ट्रांसफर, मोबाइल रिचार्ज, डीटीएच रिचार्ज, बिजली बिल भुगतान, क्रेडिट कार्ड बिल आदि प्रकार के ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के लिए डेबिट कार्ड का उपयोग कर सकते हैं। 

एटीएम मशीन के द्वारा आप डेबिट कार्ड का किसी भी समय उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आपको किसी भी प्रकार का कोई अलग से चार्ज नहीं देना होगा। लेकिन आपको अपने बैंक के द्वारा डेबिट कार्ड पर दी गई महीने की ट्रांजैक्शन सीमा पर ध्यान देना होगा।

दोस्तों, अब हम बात करेंगे क्रेडिट कार्ड के बारे में की क्रेडिट कार्ड क्या होता है और इसके कौन-कौन से फायदे होते हैं? आज के समय में क्रेडिट कार्ड का मार्केट में काफी अधिक ट्रेंड बढ़ रहा है। क्या आप जानते हैं क्रेडिट कार्ड लोगों को कैसे मिलता है और किन लोगों को नहीं मिल पाता है और इन सब के पीछे क्या कारण होता है? आपको नहीं पता है तो कोई बात नहीं नीचे पोस्ट पढ़ना शुरू कीजिए, सब कुछ पता चल जाएगा।

क्रेडिट कार्ड क्या है? –

क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन ट्रांजैक्शन एक भुगतान कार्ड होता है जिसका उपयोग डेबिट कार्ड की तरह ही किया जाता है। क्रेडिट कार्ड का आपके बैंक अकाउंट से कोई मतलब नहीं होता है यह सीधे उसी बैंक से लिंक होता है। क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल अधिकतर ऑनलाइन ट्रांजैक्शन नहीं किया जाता है। 

क्रेडिट कार्ड के सारे फंक्शन एटीएम कार्ड के जैसे होते हैं। डेबिट कार्ड सीधे आपके बैंक अकाउंट से लिंक होता है। यानी आपके बैंक अकाउंट में जितना पैसा होगा उतना आप एटीएम कार्ड से निकाल सकते हैं और खर्च कर सकते हैं। लेकिन क्रेडिट कार्ड में अलग है, क्रेडिट कार्ड में बैंक आपको एक लिमिट देता है। जैसे मान लीजिए कि आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट ₹60000 है तो आप ₹60000 तक शॉपिंग कर सकते हैं चाहे आपके बैंक अकाउंट में ₹0 बैलेंस है।

क्रेडिट कार्ड के माध्यम से जब हम ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं तो हमें उसका बिल जमा करने के लिए 50 दिनों का समय दिया जाता है। इस समय सीमा के भीतर हमें की गई ऑनलाइन शॉपिंग के बिल का भुगतान करना होता है। अगर एक निर्धारित समय सीमा में बिल का भुगतान नहीं कर पाते हैं तो अतिरिक्त शुल्क साथ भुगतान करना होता है।

क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कभी भी एटीएम से पैसे निकालने के लिए नहीं करें क्योंकि एटीएम से पैसे निकालना आपको काफी महंगा हो सकता है। जब हम क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके एटीएम से नगद पैसे निकालते हैं तो उसका हमें अधिक ब्याज देना पड़ता है। आम भाषा में कहा जाए तो क्रेडिट कार्ड ऋण के रूप में पैसे देता है, जो हमें एक निर्धारित समय सीमा के भीतर जमा कराना होता है।

जब हम बैंक में क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करते हैं तो बैंक आपकी प्रति माह की सैलरी और लेनदेन को देखकर ही आपके लिए क्रेडिट कार्ड जारी करता है। लोग ऐसे होते हैं जिनका सिबिल स्कोर हाई होता है तो उनके लिए भी क्रेडिट कार्ड लेना आसान होता है। क्रेडिट कार्ड में आपके सिबिल स्कोर की परफॉर्मेंस के आधार पर ही आपको क्रेडिट लिमिट दी जाती है। 

बैंक के द्वारा आपके क्रेडिट कार्ड में डिपॉजिट किए गए पैसे का आप ऑनलाइन शॉपिंग, मोबाइल रिचार्ज, फ्लाइट टिकट और ट्रेन टिकट बुकिंग आदि में इस्तेमाल कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड में डिपॉजिट किए गए पैसे का आप कुछ भी कीजिए बैंक आपसे कोई भी सवाल जवाब नहीं करेगा लेकिन खर्च किए गए रुपयों का हर महीने बिल जमा कराना होगा। अगर आप किसी कारणवश बिल जमा नहीं करा पाते हैं तो आपको कई तरह के चार्ज देने पड़ सकते हैं। 

आपको बता दें कि क्रेडिट कार्ड के जरिए एटीएम से कैश धनराशि निकालने पर आपको ब्याज देना पड़ सकता है। लेकिन जब आप आप अपने क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल ऑनलाइन शॉपिंग के भुगतान के लिए करते हैं या खरीदे गए सामान का स्वाइप मशीन से बिल देते हैं, तो आपको उसके लिए कोई भी ब्याज नहीं देना होता है। हर महीने आप क्रेडिट कार्ड से जीतने रुपए खर्च करेंगे इतने रुपए आपको बिल के रूप में जमा करने होंगे। 

डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड का बेसिक अंतर क्या होता है इसके बारे में आप अच्छी तरह से जान गए हैं। अब बात करते हैं कि क्रेडिट कार्ड आज के समय में इतना ट्रेंड क्यों कर रहा है? क्या कारण है कि लोग क्रेडिट कार्ड अधिक उपयोग में ले रहे हैं? 

दोस्तों, इन सब के पीछे सबसे बड़ा कारण यह होता है कि आज के समय में खर्चे अधिक बढ़ चुके हैं और जो महीने की सैलरी होती है, उससे हम अपने खर्चे को मैनेज नहीं कर पाते हैं। इन सबके अलावा कई सारे फायदे हैं जिनकी वजह से क्रेडिट कार्ड काफी अधिक उपयोग में लिया जाता है। जैसे हम कोई मोबाइल खरीदना चाहते हैं लेकिन उसका प्राइस अधिक हैं तो उसे ऑनलाइन ईएमआई पर क्रेडिट कार्ड की सहायता से खरीद लेते हैं। 

मोबाइल खरीदते समय जब हम क्रेडिट कार्ड का ईएमआई के लिए उपयोग करते हैं तो हमें महीने के हिसाब से मोबाइल का पैसा देना होता है। मान लीजिए आपने क्रेडिट कार्ड की सहायता से ईएमआई पर ₹40000 का मोबाइल खरीदा है तो आपको हर महीने ईएमआई पर जुड़े हुए पैसों का बिल जमा कराना होता है। अगर आप 12 महीने के लिए अपने मोबाइल का ईएमआई करते हैं तो आपको 3333 रुपए प्रति माह जमा कराने होंगे। 

इस तरह का ऑप्शन सिर्फ क्रेडिट कार्ड में ही उपलब्ध होता है इसीलिए लोग क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करते हैं। क्रेडिट कार्ड में आप 1 महीने तक पैसे का उपयोग कर सकते हैं और बाद में उसे बिल के रूप में जमा कर सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड किन लोगों को दिया जाता है? – 

आपको बता दें कि क्रेडिट कार्ड हर व्यक्ति को नहीं दिया जाता है। बैंक के द्वारा क्रेडिट कार्ड सिर्फ उसी व्यक्ति को दिया जाता है जो सरकारी या प्राइवेट जॉब करता है या वह खुद का बिजनेस करता हो। जरूरी नहीं होता है कि सरकारी या प्राइवेट जॉब करने वाले व्यक्ति को क्रेडिट कार्ड मिल जाए क्योंकि बैंक क्रेडिट कार्ड जारी करने से पहले आपके बारे में संपूर्ण जानकारी हासिल करता है।

क्रेडिट कार्ड लेने के लिए आपकी महीने की सैलरी कितनी है और आप अपने बैंक अकाउंट से कितना लेनदेन करते हैं, इसके बारे में बैंक जानकारी हासिल करता है। इसके अलावा दूसरा फैक्ट होता है कि आपने जीवन में कभी कोई लोन लिया है या आपका कोई पहले से क्रेडिट कार्ड बना हुआ है। अगर आपका पहले से कोई क्रेडिट कार्ड बना हुआ है तो आपको हर कोई बैंक क्रेडिट कार्ड के लिए ऑफर देगा। 

पहले से ही बैंक से लोन या क्रेडिट कार्ड लेने की वजह से आपका सिबिल स्कोर रिकॉर्ड होता है, जिसकी वजह प्रत्येक बैंक आपको आसानी से क्रेडिट कार्ड जारी करने का ऑफर देता है। अगर आपका सिबिल स्कोर रिकॉर्ड खराब दिखाई देता है तो आपके लिए क्रेडिट कार्ड लेना मुश्किल हो जाता है। लेकिन फिर भी आजकल कई सारे ऐसे बैंक है जो आपके खराब सिविल स्कोर पर भी क्रेडिट कार्ड जारी कर देते हैं। 

क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाएं –

आज के समय में क्रेडिट कार्ड लेना कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन यह तभी संभव है जब आप नौकरी करते हैं या आपकी सैलरी ₹15000 से अधिक है। 

क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए आपको अपने बैंक अकाउंट में कम पैसा होने के बावजूद भी लेनदेन जारी रखना है। अगर आप कुछ महीनों तक अपने लेनदेन को जारी रखते हैं तो बैंक आपको खुद क्रेडिट कार्ड बनवाने की पेशकश करेगा। 

कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपना खुद का बिजनेस करते हैं तो उनके लिए क्रेडिट कार्ड बनवाना बहुत आसान है क्योंकि बैंक भी जानता है कि एक व्यवसायी व्यक्ति को कई सारे लेनदेन करने होते हैं। 

क्रेडिट कार्ड बनवाने का सबसे अच्छा तरीका है है कि आप सबसे पहले किसी बैंक में अपना अकाउंट खुलवाएं और लगभग 3 महीने तक अपने अकाउंट में न्यूनतम ₹50000 रखें। 

उसके बाद अपने बैंक खाते से सप्ताह में दो-तीन बार लेनदेन जरूर करें। चाहे आप के लेनदेन की राशि कम हो लेकिन आपको कुछ महीने तक लगातार लेनदेन करते रहना है। 

इसके अलावा दूसरा तरीका है कि आपके बैंक अकाउंट से लिंक FD खुलवाएं। जब आप अपने बैंक अकाउंट से लिंक एफडी खुलवाते हैं तो उसमें एक ऑप्शन होता है, जिसका उपयोग करके आप क्रेडिट कार्ड बनवा सकते हैं। उस ऑप्शन में लिखा होता है कि आप अपनी एफडी से लिंक क्रेडिट कार्ड बनवाना चाहते हैं। 

एफडी से लिंक क्रेडिट कार्ड बनवाने पर क्रेडिट लिमिट आपके द्वारा खोली गई एफडी अमाउंट पर निर्भर होती है। मान लीजिए आपने ₹50000 से एफडी खुलवाया है तो आपको ₹40000 की क्रेडिट लिमिट वाला क्रेडिट कार्ड मिल जाएगा। 

इस तरह से आप कम सिविल स्कोर होने पर भी किसी भी बैंक से आसानी से क्रेडिट कार्ड बनवा सकते हैं। क्योंकि इसी तरह से मैंने अपने बैंक का क्रेडिट कार्ड बनवाया है, इसलिए मुझे इसमें पूरी तरह से विश्वास है।

क्रेडिट कार्ड के कौन-कौन से लाभ होते हैं? –

क्रेडिट कार्ड होने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपके बैंक अकाउंट में पैसे नहीं है, फिर भी आप अपने क्रेडिट कार्ड के माध्यम से आसानी से खरीदारी कर सकते हैं। क्योंकि क्रेडिट कार्ड का आपके बैंक खाते के बैलेंस से कोई मतलब नहीं होता है। 

क्रेडिट कार्ड के जरिए ऑनलाइन शॉपिंग के माध्यम से किसी भी सामग्री को खरीदने के लिए आप अमेज़न,‌ फ्लिपकार्ट, जिओ शॉपिंग आदि से ईएमआई पर कोई भी सामग्री खरीद सकते हैं।

अगर आप ऑनलाइन शॉपिंग के जरिए लैपटॉप मोबाइल या कोई अन्य सामग्री खरीदना चाहते हैं और आपके पास एक बार में भुगतान करने के लिए पैसे नहीं है, तो आप ईएमआई के माध्यम से उस वस्तु को आसानी से खरीद सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने पर आपको बैंक की तरफ से कई सारे कूपन कोड और ऑफर दिए जाते हैं। अगर आप उन ऑफर को देखकर ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं तो आपको छूट तक मिलती है।

अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर कई तरह की सेल चलती रहती है, उसमें आप अपने क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके ऑफर का लाभ उठा सकते हैं। ‌

क्रेडिट कार्ड की लिमिट कितनी होती है? – 

क्रेडिट कार्ड की लिमिट आपकी महीने की इनकम या लेनदेन पर निर्भर होती है। आपके सिबिल स्कोर के रिकॉर्ड को देखकर ही बैंक आपके क्रेडिट कार्ड में लिमिट तय करता है। अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाने के लिए किए गए ऑनलाइन ट्रांजैक्शन का बिल समय पर चुकाना होगा। ‌

कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनके क्रेडिट कार्ड की लिमिट 20000 से लेकर 60000 रुपयों तक होती है लेकिन कुछ ऐसे बिजनेसमैन लोग होते हैं जिनके क्रेडिट कार्ड लिमिट लाखों रुपए में होती है। क्योंकि बिजनेसमैन लोग अपने क्रेडिट कार्ड का उपयोग बिजनेस के रूप में भी करते हैं जिसकी वजह से उनकी क्रेडिट कार्ड की लिमिट लाखों रुपए में होती है।

निष्कर्ष –

दोस्तों आज की इस लेख में क्रेडिट कार्ड के बारे में विस्तार से बताया है और आशा करता हूं कि यह जानकारी आप सभी को बहुत पसंद आई होगी। ‌इसके माध्यम से आप जान गए होंगे कि डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर होता है? इसके अलावा इस लेख में डेबिट कार्ड क्या होता है, क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाएं, क्रेडिट कार्ड के कौन-कौन से लाभ होते हैं,  क्रेडिट कार्ड की लिमिट कितनी होती है आदि के बारे में अच्छी तरह से बताया गया है।

यह भी पढ़ें – Amazon Pay Se Paise Kaise Kamaye | अमेज़न पे से पैसे कैसे कमाएं, अभी जानिए आसान प्रोसेस

भारत के 5 सबसे प्रसिद्ध मंदिर | Top 5 India’s Most Famous Temples

Best Gaming Laptops 2023 | Top Gaming Laptops

How to Create a Website for Free and Earn Money in 2023

Prakash Bansrota

We will provide you with interesting content, which you will like very much. On this website, you will find the world and national news, loans, insurance, mortgage, beauty tips, health, Bollywood, entertainment, technology, and education-related content.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button